दोस्तों ! कभी कभी ज़िन्दगी में ऐसे भी क्षण आते है। हमें ज़िंदगी की सच्चाई से रूबरू होना होता है। और उन क्षणों में हम अधिकतम सिर्फ और सिर्फ दुखी ही होते है।  और हमें एक जीवन साथी की तलाश भी होती है।  जिसके काँधे पर हम सर रख कर रो सके। तो आपके लिए No.1 sad zindagi shayari in hindi. ज़िंदगी कभी कभी तो ऐसे इम्तिहान लेती है की जब हमें सच्चाई का सामना करना की पड़ता है चाहे हमें चाहे या नहीं।

zindagi ki sachai shayari in hindi. वैसे भी मित्रो हर किसी की ज़िंदगी स्वयं में ही बहुत कुछ सीखा देती है।  लोग अक्सर कहते जरूर है कि बादाम खाने से अक्ल आती है मगर अक्ल (बुद्धि ) ज़िंदगी में ठोकर खाने से ही आती है। zindagi ki sikh shayari in hindi.zindagi ki shayari hindi mai.

zindagi ki sachai shayari

zindagi ki sachai shayari in hindi

ज़िन्दगी के रथ में लगाम बहुत है।
अपनो के अपनो पर ‘इल्जाम’ बहुत है।।
ये शिकायतों का दौर देखता हूँ तो थम सा जाता हूँ।
लगता है उम्र कम है और ‘इम्तिहान’ बहुत है।।


ज़िन्दगी की शायरी

जमाने भर की डिग्रियाँ रखकर भी
हम अपनो की तकलीफ ना पढ़ सके
तो अनपढ़ ही हुए हम।


बदला लेने की नहीं
बदलाव लाने की सोच रखिये,
दो पल के गुस्से से
प्यार भरा रिश्ता बिखर जाता है,
होश जब तक आता है तब तक
वक्त निकल जाता है…..


Zindgi Vishwas Hindi Shayari

उम्मीद तैरती रहती है
कस्तियाँ डूब जाती है,
कुछ घर सलामत रहते है
आंधियां जब भी आती है,
बचा ले जो हर तूफान से
उसे आशा कहते है…
बड़ा मजबूत होता है ये धागा
जिसे विश्वास कहते है।


ज़िन्दगी की शायरी – zindagi ki shayari hindi mai

Dr. Rahat Indori Best Zindgi Sachhai shayari in Hindi

चरागों को उछाला जा रहा है,
हवा पर रौब डाला जा रहा है,
न हार अपनी न अपनी जीत होगी ,
मगर सिक्का उछाला जा रहा है

-( राहत इन्दोरी साहब )


मुझे क्या हक़,
मैं किसी को मतलबी कहूँ,
मैं खुद ही खुदा को मुसीबत में याद करता हूँ…


मैंने जिंदिगी की गाड़ी से वो साइड ग्लास ही हटा दिए,
जिसमे पीछे छूटते रस्ते और बुराई करते लोग नजर आते थे…


जहर दुकान पर नकली,
और जुबान पर असली मिलता है…


sad zindagi shayari in hindi

एक अलग सी पहचान बनाने की आदत है हमें,
ज़ख्म हो जितना गहरा
उतना मुस्कुराने की आदत है हमें …


रोज एक नई तकलीफ,
रोज एक नया गम
ना जाने कब एलान होगा
की मर गए हम …


एक तम्मना थी की
जिंदिगी रंग बिरंगी हो,
और दस्तूर देखिए जितने मिले
गिरगिट ही मिले…


कैसा अनोखा ये
संसार है
दिल से नहीं जरुरत से
प्यार है…


मैं शौक दवा का रखता हूँ,
बीमार थोड़ी हूँ
तुम चाहती हो मैं रोज मिलू
अख़बार थोड़ी हूँ…


नाराजगी मुझसे कुछ ऐसे भी
जताती है वो
ख़फ़ा जिस रोज हो
काजल नहीं लगाती है वो …


रास्ते कहाँ ख़तम होते हैं
ज़िन्दगी के सफर मे
मंज़िल तो वही है जहाँ ख्वाइशें थम जाये


ज़िंदगी की सीख शायरी -zindagi ki sikh shayari in hindi

जी भर के रोते हैं तो करार मिलता है
इस जहाँ मे कहाँ सबको प्यार मिलता है
ज़िन्दगी गुज़र जाती है
इम्तेहानों के दौर से
एक ज़ख्म भरता है तो
दूसरा तैयार मिलता है


कोई सुलह करा दे
ज़िन्दगी की उलझनों से ,
बड़ी तलब लगी है
आज मुस्कुराने की ..


तकदीरें बदल जाती हैं, जब ज़िन्दगी का कोई मकसद हो;
वर्ना ज़िन्दगी कट ही जाती है ‘तकदीर’ को इल्ज़ाम देते देते….


ज़िन्दगी की राहों में..
ऐसा अक्सर होता है..
फैसला जो मुश्किल हो वो ही बेहतर होता है..!!


सुना था ज़िन्दगी इम्तेहान लेती है
पर यहाँ तो इम्तेहानों ने ज़िन्दगी ही ले ली


वो मेरी सारी ज़िन्दगी बन गयी
पर मैं उसका एक लम्हा भी ना बन सका


जिंदगी बहुत खूबसूरत है, जिंदगी से प्यार करो,
अगर हो रात तो, सुबह का इंतजार करो,
वो पल भी आएगा जिसका तुझे इंतेज़ार है,
बस उस खुदा पर भरोसा और वक्त पर ऐतवार करो।